राजनैतिक

बीजेपी सबसे बड़ी पार्टी बनी, कांग्रेस की करारी हार।

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के चुनाव नतीजों के साथ ही कांग्रेस को अब तक का सबसे करारा झटका लगा है। यूपी में कांग्रेस की सियासी जमीन पहले से दरकी हुई थी।

Photo: Google

उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के चुनाव नतीजों के साथ ही कांग्रेस को अब तक का सबसे करारा झटका लगा है। यूपी में कांग्रेस की सियासी जमीन पहले से दरकी हुई थी। बंजर हो चुकी जमीन पर जीत का फूल खिलाने के लिए कांग्रेस ने काफी मेहनत की। राहुल गांधी ने काफी पहले से प्रचार शुरू कर दिया था। वो किसान यात्राओं और खाट सभा के जरिए यूपी की जनता तक अपनी पहुंच बना रहे थे। लेकिन बीच राह में ही उन्होंने अपना सफर खत्म कर दिया। अब कयास लगाए जा रहे हैं कि राहुल गांधी को उपाध्यक्ष पद से बर्खास्त किया जा सकता है।

गठबंधन के आसान रास्ते को चुन लिया था राहुल गांधी। इसी के साथ ये संकेत मिलने लगे थे कि राहुल अपने दम पर बीजेपी और पीएम मोदी से टक्कर नहीं ले सकते हैं। उन्होंने सोचा कि यूपी की जातिगत राजनीति को साधने के लिए समाजवादी पार्टी के साथ गठबंधन करना ज्यादा बेहतर विकल्प है। वहीं अपने काम के जरिए सत्ता वापसी की सोच रहे अखिलेश की भी बुद्धि पर ग्रहण लग गया था जो उन्होंने राहुल गांधी का साथ ले लिया।

अब जबकि यूपी में चुनाव के नतीजे सामने आ चुके हैं उसके बाद ये साफ हो गया है कि राहुल गांधी में करिश्मा नाम की कोई चीज नहीं है। वो आस्तीन ऊपर चढ़ा कर मोदी की नकल करके जनता का मनोरंजन तो कर सकते हैं लेकिन एक गंभीर नेता की छवि नहीं बना सकते हैं। यूपी में भी उन्होंने यही किया. उन मुद्दों को लेकर मोदी पर हमला किया जिन पर जनता लगातार मोदी का समर्थन करती आई है। नतीजा सामने है यूपी में कांग्रेस अपना दल जैसी छोटी पार्टी से भी पीछे रह गई और पांचवे नंबर पर आई।

यूपी औऱ उत्तराखंड के चुनाव के बाद अमेरिका में इलाज करा रही कांग्रेस अध्यक्ष बेहद खफा हैं। कांग्रेस में इस बात को लेकर अटकलें तेज हैं कि राहुल गांधी को उपाध्यक्ष पद से हटाया जा सकता है। पार्टी में संदेश देने के लिए कुछ दिनों के लिए राहुल गांधी को उपाध्यक्ष के पद से हटा दिया जाएगा उसके बाद उन्हे सीधे अध्यक्ष बना दिया जाएगा। इस तरह से सोनिया गांधी ये संदेश देने की कोशिश करेंगी कि पार्टी अब हार के जिम्मेदारों पर एक्शन ले रही है। वहीं बाद में सोनिया गांधी की बीमारी का हवाला देकर राहुल गांधी को अध्यक्ष बना दिया जाएगा।

To Top